Home / fort

fort

बयाना-इतिहास और किले के मु़ख्यतथ्य के बारे में

बयाना भारत गणराज्य के राजस्थान प्रान्त का एक प्रमुख शहर है। बयाना को वाणासुर की नगरी के नाम से भी जाना जाता है। मुगल इतिहास में भी एक प्रसि़द्व शहर हुआ करता था। मुगल बादशाह बाबर और राणा सांगा के बीच प्रसि़द्वखानवा का युद्व भी यहाँ के पास ही हुआ …

Read More »

लोहागढ का इतिहास और किले के मु़ख्यतथ्य के बारे में

महाराजा सूरजमल ने एक अजेय किले की परिकल्पना की थी जिसके उपरान्त किले के दोनो और मजबूत दरवाजे जिनमें नुकीले लोहे की सलाखें लगायी गयी। उस समय तोपों तथा बारूद का प्रचलन अत्याधिक हुआ करता था जिससे किलों की मजबूत से मजबूत दीवारों को आसानी से ढहाया जा सकता था। …

Read More »

डीग का इतिहास और किले के मुख्य तथ्य के बारे में

डीग| राजस्थान राज्य के भरतपुर जिले का एक प्राचीन ऐतिहासिक शहर है। इसका प्राचीन नाम दीर्घापुर था। स्कंद पुराण में दीर्घ या दीर्घापुर के रूप में इसका उल्लेख है। भरतपुर शहर से 32 किमी की दूरी पर स्थित है। यह रोचक छोटा सा नगर अपनी बेजोड किलेबंदी अत्यधिक सुंदर बगीचों …

Read More »

कामां के मुख्य तथ्य के बारे में एवं इतिहास

इतिहास:- कांमा को हिंदुओं के लिए एक बहुत पुराना और पवित्र शहर माना जाता है क्याके कि यह ब्रज क्षेत्र का हिस्सा बनता है। जहां भगवान कृष्ण ने अपनी प्रारंभिक जीवन व्यतीत किया था। इसे कामवन भी कहा जाता है। कहा जाता है कि इसका पूर्व नाम ब्रह्मपुर रहा है, …

Read More »

कुम्हेर किले का इतिहास मुख्य जानकारी

इतिहास कुम्हेर की स्थापना एक जाट सरदार कुंभ ने की थी। 1754 में जब भरतपुर के राजा सूरजमल राजा थे तो कुम्हेर किले को मराठो द्वारा घेर लिया गया था। क्योंकि पेशवा बालाजी बाजी राव के छोटे भाई राघोबा (सरदारी द्वारा समर्थित सिंधियास और होलकर्स) चाहते थे कि सूरजमल अधीन …

Read More »

नदबई किले के मुख्य तथ्य के बारे में

ऐसा माना जाता है कि लगभग 1000 साल पहले नंदा या नंदू नाम का एक आदमी जो आसपास के गाँव कटारा से दूधिया था ने इस गांव और उसके नाम पर गांव की आबादी की। यह भी माना जाता है कि ब्रिटिश राज के दौरान इस शहर को कब्जा नहीं …

Read More »